You are here
जागृति आई है लोग बढ़-चढ़ कर समाज सेवा करना चाहते: राजीव शर्मा Delhi India 

जागृति आई है लोग बढ़-चढ़ कर समाज सेवा करना चाहते: राजीव शर्मा

दुमका में रेवती नन्दन चौधरी ने मुझे लगभग 20 लोगों से मिलवाया, मनोज कुमार राय ,पंकज कुमार महाराज, विनोद सारस्वत, मणिकांत राय, स्व पंडित ललन महाराज के पूरे परिवार से,अरूण राय वकील साहब से एवं और सारे लोगों से जो समाजिक हैं और समाज के उत्थान मे भागीदारी करना चाहते हैं। लेखक: राजीव शर्मा, सदस्य, ब्रह्मभट्टवर्ल्ड दिल्ली मंथन समिति, नजफगढ, दिल्ली....
समझौता करो, नजरअंदाज करो, जाने दो,अरे छोड़ो भी India Maharashtra 

समझौता करो, नजरअंदाज करो, जाने दो,अरे छोड़ो भी

यदि एक स्त्री किसी भी बात का विरोध नही कर रही ,तकलीफ होते हुए भी तो ये उसका प्यार है अगले के प्रति ,,,भावुकता में आंसू भरकर लम्बी सांस लेकर आंसुओ को सूखा लेती है तो ये अगले की जीत नही हार है । किरण शर्मा/मुंबई #कब तक आखिर #कब तक हम झेले? कब तक चुप रहे कब तक न...
टीवी एंकर रमेश भट्ट क्यों उतरे राजनीति के अखाड़े में? Delhi India 

टीवी एंकर रमेश भट्ट क्यों उतरे राजनीति के अखाड़े में?

ओज से दीप्त इस उत्तराखंडी को मैंने एक पूर्ण समर्पित पत्रकार के रूप में पाया. पिछले 13 वर्षों के टीवी अनुभव के दौरान मैने जिन एंकरों को देखा उनमें रमेश अपनी ओजस्वी वाणी और समर्पण के लिहाज से मेरी किताब में पहली पायदान पर रहा है. Written by:  Padampati Padam, varanasi यदि यह कहूं कि मैं पूर्वजन्म पर विश्वास करता...
दिल्ली मंथन के लिए 18 सितम्बर तक 213 नाम दर्ज Delhi India 

दिल्ली मंथन के लिए 18 सितम्बर तक 213 नाम दर्ज

15 सितम्बर तक दिल्ली मंथन के लिए इस सप्ताह 18 नये स्वजनों के नाम दर्ज: अब तक 216 नाम दर्ज -मंथन 23 दिसंबर रविवार को दिल्ली में आनंद विहार बस अड्डे के सामने गाजियाबाद के कौशाम्बी स्थित लेमन ट्री होटाल में होगा List prepared by Amita Sharma, Admin and Amit Ranjan, Gzb. 1. Roy Tapan Bharati, Editor, Khabar-india.com and founder...
क्या फेसबुक ग्रुप के लिए यह सब संभव है? Uncategorized 

क्या फेसबुक ग्रुप के लिए यह सब संभव है?

लोकतंत्र में एक ही समाज के अनगिनत ग्रुप हो सकते हैं। जैसे मोदी समर्थकों के सैकड़ों ग्रुप चल रहे हैं। जैसे अख़बारों पर पाबंदी नहीं लगाई जा सकती वैसे ही फेसबुक ग्रुप के सृजन को रोका नहीं जा सकता।   1. नम्र निवेदन है कि पहले किसी भी लेख या पोस्ट को समग्र रूप से पढ़कर समझें फिर अपना मंतव्य...
लीक से हटकर नया काम करना आसान नहीं होता: ROY TAPAN Delhi India 

लीक से हटकर नया काम करना आसान नहीं होता: ROY TAPAN

जिस शहर में यह मिलन समारोह होता वहाँ अपने समाज की उत्साही टीम इसके आयोजन का जिम्मा संभालती…आयोजन टीम के हर सदस्य की सलाह सुनी जाती, सब मिलकर आयोजन की जिम्मेवारी संभालते…इस प्रोग्राम में हम सब मेजबान होने के बावजूद अपने अपने परिवार के सदस्यों का निबंधन भी कराते…यानी हम सब मेजबान भी हैं और मंथन के प्रतिभागी भी… Written...
पहले समझते थे कि राजकुमार शुक्ल भूमिहार थे परंतु बाद में पता चला कि वे ब्रह्मभट्ट थे: संजय पासवान Bihar India 

पहले समझते थे कि राजकुमार शुक्ल भूमिहार थे परंतु बाद में पता चला कि वे ब्रह्मभट्ट थे: संजय पासवान

पहली बार संस्थान ने साहित्य के क्षेत्र में स्व.भूपेंद्र अबोध (मरणोपरांत), पत्रकारिता के क्षेत्र में श्री नवेन्दु सिन्हा, कला क्षेत्र में पं. ललन महाराज (मरणोपरांत) एवं सामाजिक कार्य के क्षेत्र में स्व. शशिभूषण राय (मरणोपरांत) को सम्मानित करने का निर्णय लिया राम सुंदर दसौंधी/PATNA पं. राज कुमार शुक्ल स्मृति संस्थान की ओर से राजेश भट्ट एवं अंबरीश कांत महाराज जी...