You are here
वाकई, समाज को बदल डाला कुलदीपक-गंगोत्री ने Bihar Delhi India 

वाकई, समाज को बदल डाला कुलदीपक-गंगोत्री ने

ऐतिहासिक कदम उठाने वाले परोपकारी ससुर हैं सत्यदेव शर्मा जी लेखक: राय तपन भारती, पत्रकार एवं संस्थापक, Brahmbhattworld नई दिल्ली: लीक से हटकर काम करने वाले समाज में बिरले ही होते हैं। आप सब शायद पश्चिमी दिल्ली के नजफगढ में हरियाणा के ब्रह्मभट्ट सत्यदेव शर्मा जी को भलीभांति जानते होंगे जो रिटायरमेंट के बाद भी केंद्रीय मंत्रालय में कार्यरत हैं।...
ब्रह्मभट्टवर्ल्ड और मंथन की सच्चाई: हरिओम Bihar India 

ब्रह्मभट्टवर्ल्ड और मंथन की सच्चाई: हरिओम

यह आप पर निर्भर करता है कि आपने क्या पाया? मैं दोनों मंथन में शरीक हुआ, काफी उर्जावान लोगों के करीब आया. लोगों को समझा, बहुत सारे लोगों में समाज के प्रति कुछ करने का सकारात्मक भाव देखा, कुछ हमारे प्रेरणा स्रोत रहे, मंथन की सफलता बुलंदी को छूता गया, अब तीसरे मंथन की तैयारी चल रही है, सारे बुद्धिजीवी...
BBW दिल्ली मंथन लेमन ट्री होटल में 23 दिसंबर को सुबह 9.00 बजे से Delhi India 

BBW दिल्ली मंथन लेमन ट्री होटल में 23 दिसंबर को सुबह 9.00 बजे से

मंथन महिलाओं-युवाओं को खास तरजीह देगा, दिल्ली मंथन का  निबंधन 8 जुलाई से, पहले आइए, पहले पाइए, इस बार 400 के बाद निबंधन बंद करने की योजना  य तपन भारती, संस्थापक, brahmbhattworld घोषणा: BBW दिल्ली मंथन आनंद विहार के पास लेमन ट्री होटल में 23 दिसंबर को सुबह 9.00 बजे से, निबंधन शुल्क प्रति व्यक्ति 1,250 रुपये   -परिवार की महिला व युवा सदस्यों के...
उस ब्रह्मभट्ट गाँव में गरीबी देखकर मन द्रवित हो उठा India Jharkhand 

उस ब्रह्मभट्ट गाँव में गरीबी देखकर मन द्रवित हो उठा

-डॉ. हरेन्द्र कुमार शर्मा, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, मरकच्चो, कोडरमा, झारखंड की कलम से   -(मेरे पति मेडिकल पेशे में बिजी रहने के कारण फेसबुक पर नहीं हैं इसलिए मेरे पोस्ट के जरिए उनका यह लेख जारी हो रहा है. हमारा मकसद डॉक्टर साहेब का प्रचार नहीं बल्कि समाज के हालात से अवगत कराना है- अमिता शर्मा, रांची)   स्वजनों,  ...
मेहनतकश स्वजनों से गुलजार है बिहार का यह मकेर गांव Bihar India 

मेहनतकश स्वजनों से गुलजार है बिहार का यह मकेर गांव

अरविंद कुमार/एक्जक्यूटिव इंजीनियर, UPCCL,  लखनऊ “यूं तो हमने लाख, हँसी देखे हैं, तुम सा नहीं देखा।।” लेखक: अरविंद शर्मा, एक्जक्यूटिव इंजीनियर at UPCL/लखनऊ बात जब गांवों की होती है, वो भी आपकी जन्मभूमि की तो आपका अति उत्साहित होना स्वाभाविक है। आपकी अनगिनत यादें जो जुड़ीं होती हैं। उस पर यदि आप मुख्यालय से सम्बद्ध होते हैं तो लिखने-पढ़ने का...
वर या वधू की शादी में उपहार स्वरूप नकद राशि ही दें Delhi India 

वर या वधू की शादी में उपहार स्वरूप नकद राशि ही दें

अच्छा हो यदि लोग वर या वधू की शादी में उपहार स्वरूप नकद राशि दें: ब्रह्म्भट्टवर्ल्ड का सुझाव विवाह में लोग साड़ी, पायल बिछुवा /या अंगूठी देते हैं अंततः इन सबकी भरमार हो जाती है Sangita Roy, Purnia लिखती हैं: मेरी समझ से तो लड़की या लड़के किसी की भी शादी हो नकद राशि देना सर्वोत्तम होता है। नकद राशि...
BBW: एक बड़े कैनवास पर समाज को देखने का अनुभव India Uttar Pradesh 

BBW: एक बड़े कैनवास पर समाज को देखने का अनुभव

नजदीकी रिश्तेदारों के अलावा इर्द गिर्द 10-20 परिवार को जान लेना ही काफी नहीं। ब्रह्मभट्टवर्ल्ड  के जरिए बड़े कैनवास पर समाज को देखना एक सुखद अनुभव है। उनमें कुछ लोगों से संपर्क की अच्छी शुरुआत हुई। महेंद्र भट्ट/ इलाहाबाद ब्रह्मभट्ट वर्ल्ड से जुड़ने के बाद समाज का फैलाव महसूस हुआ। नजदीकी रिश्तेदारों के अलावा अपने इर्द गिर्द दस बीस परिवार...
कम्हरिया गांव: लगभग हर घर सुखी संपन्न Bihar India 

कम्हरिया गांव: लगभग हर घर सुखी संपन्न

Dharmendra Ray/कम्हरिया, बक्सर जिला, बिहार आज मैं अपने गांव कम्हरिया का परिचय अपने ब्रह्मभट्ट समाज में कराने जा रहा हूं।  मेरा गांव बक्सर जिले के सदर अनुमंडल मैं पड़ता है बक्सर शहर और रेलवे स्टेशन से बक्सर बनारस मुख्य मार्ग पर बक्सर शहर से 7 किलोमीटर दूरी पर अवस्थित है मेरा गांव कम्हरिया।  उत्तरवाहिनी गंगा के तट पर अवस्थित है।  गांव...
दहेज नहीं, बहू चहिए Engr ABHINAV के लिए Bihar India 

दहेज नहीं, बहू चहिए Engr ABHINAV के लिए

इंजीनियर अभिनव के लिए बहू की खोज में सहयोग करें आपमें से बहुत सारे स्वजन पटना में बसे पुरैनी (मधेपुरा) के निर्मल कुमार रायजी को जानते होंगे। वे आरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट पद से रिटायर हैं और समाजसेवा को सदैवा समर्पित रहते हैं। वे पटना मंथन में भी शरीक हुए थे। उन्होंने की दहेज विरोधी मुहिम का समर्थन करते हुए...
सुनो,अगर हाथ थामा है ,तो कभी छोड़ना मत Bihar India 

सुनो,अगर हाथ थामा है ,तो कभी छोड़ना मत

written by भारती रंजन कुमारी, दरभंगा, बिहार सुनो,अगर हाथ थामा है ,तो कभी छोड़ना मत। छोड़कर जाना होअगर,तो हाथ थामना मत।   तुम जैसे क्या समझेंगे बेवफाई का दर्द , तुम जैसे क्या समझेंगे रिश्तों का फर्ज, सुनो–दूर जाना है अगर,तो जरूर जाओ , मगर दुबारा वापस लौटकर ,कभीआना मत। मेरे तन मन को जिंदा लाश बनाना मत। छोड़कर जाना...
1 2 3 17