You are here
रक्षा मंत्रालय के अफसर समदर्शी की मौत महज 39 साल में Bihar Delhi India 

रक्षा मंत्रालय के अफसर समदर्शी की मौत महज 39 साल में

उनकी अंत्येष्टि दिल्ली छावनी में बरार चौराहे के निकट श्मशान घाट पर आज अपराह्न 3 बजे से  -परिवार सदमे में, दिल्ली वालों से आग्रह कि अंत्येष्टि में आने का कष्ट करें, समय की सूचना दोपहर में दूंगा -परिवार कनाट प्लेस में कस्तूरबा गांधी मार्ग पर 613, एशिया हाउस (भारतीय विद्या भवन के सामने) स्थित सरकारी क्वार्टर में रहता है -ईश्वर...
ममिया ससुर के यौन-शोषण से बचने के लिए वह मुसलमान बन गई India Maharashtra 

ममिया ससुर के यौन-शोषण से बचने के लिए वह मुसलमान बन गई

बिधवाएं सोचती थीं, इससे तो अच्छा होता पति के बदले वही मर जाती. वृंदावन और काशी (बनारस) की विधवाओं को घर वालों ने एक बार जो वहाँ लेकर जाकर छोड़ दिया फिर पलटकर देखा तक नहीं कि वह जिंदा हैं या मर गयीं. असीमा भट्ट/मुंबई (सभी फोटो लेखिका असीमा भट्ट की, वह मुंबई में वॉलीवुड और नाटकों की अभिनेत्री हैं) बात...
नवहट्टा गांव, जो पान-माछ-मखान के लिए मशहूर है Bihar India 

नवहट्टा गांव, जो पान-माछ-मखान के लिए मशहूर है

सहरसा से नवहट्टा की दूरी 22 किलोमीटर है जिसे निजी वाहन द्वारा 30 मिनट से कम समय में तय की जा सकती है। लगभग 90% घर पक्के हैं। कई NGO भी यहाँ कार्यरत हैं। गाँव में 22-23 घंटे की बिजली आपूर्ति की जाती है।  त्रिपुरारी राय ब्रह्मभट्ट/सहरसा ब्रह्मभट्ट समाज के गांवों की कहानी की अगली कड़ी में मैं अपने गाँव- नवहट्टा...
मददगार स्वजनों से छल मत कीजिए India Maharashtra 

मददगार स्वजनों से छल मत कीजिए

आइये हम सब मिलकर आत्ममंथन करें Written by Deorath Kumar, *मेरे मन की बात- दूसरी और अंतिम क़िस्त*   आशा है, आप सबों ने मेरे लेख की पहली किस्त पढ़ ली होगी।मेरे मन मे ये विचार काफी दिनों से चल रहा था। मेरे लेख का मकसद बहुत स्पष्ट है, यदि हम 10 परिवार भी इस पोस्ट की वजह से अपने भीतर...
इस पर विजय पा लें तो समाज बहुत आगे जाएगा: देवरथ India Maharashtra 

इस पर विजय पा लें तो समाज बहुत आगे जाएगा: देवरथ

मेरे मन की बात- पहली किश्त अपने समाज के लोगों ने पिछले कई सालों में आर्थिक रूप से काफी तरक्की की है जो सर्वविदित है। पर कुछ बातें नकारात्मक हैं जो हमें सामाजिक और बौद्धिक रूप से प्रगति करने से रोक रही है। अगर हम इस पर विजय पा लें तो हमारा समाज सचमुच बहुत आगे जाएगा। देवरथ कुमार/नवी मुंबई...
राजा की शादी राजा से ही होती है Chattisgarh India 

राजा की शादी राजा से ही होती है

0 जाति का सबसे बड़ा आधार आर्थिक स्थिति कोई शुद्ध गरीब ब्राह्मण की लड़की कोई आईएएस अधिकारी अपने बेटे के लिए लेगा? आईएएस अधिकारी अपना संबंध आईएएस अधिकारी या उद्योगपति के यहां ही करेगा। अगर आप ध्यान से देखें तो राजवंशों ने भी अपनी शादियां राजवंशों में की हैं फिर चाहे आदिवासी राजाओं में क्यों न हो या मराठी और...
गंगा किनारे बसे देवमलपुर में सारी सुख-सुविधाएं Bihar India 

गंगा किनारे बसे देवमलपुर में सारी सुख-सुविधाएं

देवमलपुर (इंग्लिशपुर) गांव अब वीरान दिखता है। बहुत कम घरों में लोग दिखते हैं। अब तो पूरा गांव लगभग पलायन कर गया है। कुछ रोजगार के लिए कुछ उच्च और क्वालिटी वाली शिक्षा के कारण। गांव की मुख्य आमदनी नौकरी और कृषि-पशुपालन है। राजकिशोर/नई दिल्ली मेरा गांव देवमलपुर (इंग्लिशपुर,भोजपुर, आरा ,बिहार) है जो उत्तर प्रदेश और बिहार के सीमा पर स्थित है। हमारे...
स्वादिष्ट गुड़ भी बनता है मेरे भट्टकुर गांव में Bihar India 

स्वादिष्ट गुड़ भी बनता है मेरे भट्टकुर गांव में

भट्टकुर गांव में कृषि व्यवस्था काफी सम्पन्न है। लगभग सभी फसलें, मसाले व सब्जियां उगाई जाती हैं। पर, मुख्यतः दलहन की उपज काफी समृद्ध है। यहाँ स्वादिष्ट गुड़ भी बनाया जाता है। प्रिंयका राय/ पटना परिन्दों की चहचहाहट…. चौपालों की बैठकें.. लहलहाती फसलें….मिट्टी की सौंधी खुशबू….ये सब दृश्य किसी भी गांव की आम पहचान हैं। अगर ये नजारे आपको आकर्षित...
अतिथि को देवता मानते हैं दुधमठिया गांव के लोग Bihar India 

अतिथि को देवता मानते हैं दुधमठिया गांव के लोग

बनारस के: मेरे पूर्वज कहते हैं कि हम बनारस के मूल निवासी हैं जहाँ से रघुनाथ बाबा जो बहुत बड़े कवि थे बेतिया राजा के दरबार में आये। उनकी कविता पर खुश होकर राजा ने उन्हें लगभग 651 बीघा जमीन दान में दे दिया। बाबा ने मठिया उर्फ़ भटवालिया गाँव को चुना और यहाँ रहने लगे। बाद में आवश्यकतानुसार हजाम धोबी अहीर सभी जाति...
बोकनारी गांव, जहां नौकरी वाले सबसे अधिक: संजीव Bihar India 

बोकनारी गांव, जहां नौकरी वाले सबसे अधिक: संजीव

हमारे गांव की कृषि वर्षा पर निर्भर है। गांव के लोगों में ज्यादा लोग नौकरी पेशा से जुड़े हुए हैं, जिस वजह से कृषि पे कम ध्यान देते है। पर, अगर कृषि होती है तो बहुत अच्छा होती है। लेखक: संजीव राय, पटना कहा जाता है कि हमारा देश भारत गांवों का देश है। मेरा गांव भी अपने देश के...
1 2 3 11