You are here
बसंत ऋतु का आगमन प्रकृति को बासंती रंग से सराबोर कर जाता: प्रियंका राय Bihar India 

बसंत ऋतु का आगमन प्रकृति को बासंती रंग से सराबोर कर जाता: प्रियंका राय

धार्मिक अवसरों पर भी पीले वस्त्र पहनने की परम्परा, विवाह संस्कारों में भी नई दुल्हन को ‘पियरी’ दिए जाते लाल-पीले रंग हिन्दू धर्म में भी शुभ माने जाते हैं। विवाह संस्कारों में भी नई दुल्हन को ‘पियरी’ दिए जाते हैं। कई धार्मिक अवसरों पर भी पीले वस्त्र पहनने की परम्परा है। जैसे बसन्त पंचमी के अवसर पर भी अधिकांशत महिलाएं पीली...
वाह ताज: हर शख्स को एक बार अवश्य देखना चाहिए Bihar India 

वाह ताज: हर शख्स को एक बार अवश्य देखना चाहिए

मुख्य प्रवेश द्वार भी भव्य था। मानो कोई राजमहल में जा रहे हों। बाहर की दीवारें गेरुआ रंग से रंगे हुए थे। अंदर कुछ मीटर की दूरी पर ताजमहल अद्भुत और अद्वितीय दिख रहा था। देशी और विदेशी पर्यटकों में फोटोग्राफी की होड लगी थी। पुनः सफेद संगमरमर के ताज महल को देखने के लिए दो सौ रूपये का टिकट...
मुंगेर के इस सुरंग का दूसरा छोर कहाँ गया आज भी रहस्य Bihar 

मुंगेर के इस सुरंग का दूसरा छोर कहाँ गया आज भी रहस्य

आज का मुंगेर जिला बिहार के पिछड़े जिलों मे से एक है। आप में से बहुत लोग जानते होंगे कि बंगाल के अंतिम नबाव ‘मीर कासिम ‘ ने मुंगेर को ही अपनी राजधानी बनाया था। मीर कासिम ने गंगा नदी किनारे भव्य किले का निर्माण किया था। यह किला 1934 में बिहार में आये भीषण भूकम्प मे क्षतिग्रस्त हो गया लेकिन इसका...
मेरे भट्टकुर गांव में सदियों पुरानी परंपराएँ आज भी विद्यमान: प्रियंका राय Bihar India 

मेरे भट्टकुर गांव में सदियों पुरानी परंपराएँ आज भी विद्यमान: प्रियंका राय

“मेरा गाँव- मेरा देश” ऐतिहासिक और धार्मिक दृष्टिकोण से विश्व प्रसिद्ध त्रेतायुगीन इस मंदिर परिसर में प्रति वर्ष चैत्र और कार्तिक माह में महापर्व छठ व्रत करने वालों की भीड़ उमड़ पड़ती है। पश्चिमाभिमुख देव सूर्य मंदिर मान्यताओं के अनुसार, इसका निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने स्वयं अपने हाथों से किया। प्रियंका राय/पटना परिन्दों की चहचहाहट…. चौपालों की बैठकें.. लहलहाती फसलें….मिट्टी...
ब्रह्मभट्टवर्ल्ड: एक नयी सोच, एक नयी खोज: राकेश शर्मा Bihar India 

ब्रह्मभट्टवर्ल्ड: एक नयी सोच, एक नयी खोज: राकेश शर्मा

इस समूह की यह खासियत रही है कि समाज में सच्चे निष्ठा से कार्य कर रहे किसी व्यक्ति या समुह के प्रति कोई पूर्वाग्रह नहीं रखता है तथा किसी भी फोरम पर किसी व्यक्तिगत टिका टिप्पणी से परहेज करता है क्योंकि हम जानते हैं कि हम रहें या ना रहें हमारा समाज आगे बढ़ता रहे और इसी नीति को लेकर...
अग्नि, पृथ्वी बनाने वाले डॉ. नौतम भट्ट को कितना जानते हैं: एसएन शर्मा Bihar India 

अग्नि, पृथ्वी बनाने वाले डॉ. नौतम भट्ट को कितना जानते हैं: एसएन शर्मा

डा. कलाम के बाद अगर दूसरे नंबर पर जामनगर के नौतम भट्ट का नाम अगर माना जाये तो? देखा जाये तो उनका नाम दूसरे स्थान पर उचित नहीं है, क्योंकि भारत में रक्षा शोध की नींव रखने वाले या रक्षा क्षेत्र में स्वावलंबन के लिये जरूरी संसाधन/ संशोधन के पायनियर डॉ कलाम नहीं बल्कि डॉ नौतम भट्ट थे SN Sharma/पटना आज...
महाकवि भट्ट पद्माकर ऐसे सरस्वतीपुत्र जिन पर लक्ष्मी की कृपा सदा रही Bihar India 

महाकवि भट्ट पद्माकर ऐसे सरस्वतीपुत्र जिन पर लक्ष्मी की कृपा सदा रही

सुधाकर पांडेय ने लिखा है- “…पद्माकर ऐसे सरस्वतीपुत्र थे, जिन पर लक्ष्मी की कृपा सदा से रही। अतुल संपत्ति उन्होंने अर्जित की और संग-साथ सदा ऐसे लोगों का, जो दरबारी-संस्कृति में डूबे हुए लोग थे। …कहा जाता है जब वह चलते थे तो राजाओं की तरह (उनका) जुलूस चलता था और उसमें गणिकाएं तक रहतीं थीं।..” Written by Mahavir Prasad Bhatt/...
आनंद-भोज” में गरीबों के साथ असीम आनंद की अनुभूति Bihar India 

आनंद-भोज” में गरीबों के साथ असीम आनंद की अनुभूति

आइये, हम सब संकल्प लें कि अनाज की बर्बादी नही होने देंगें और उसी अनुपात में अनाज-साग-सब्जी अपने देश के गरीबों को समर्पित करेंगें लेखक: Bhatt Navin Kr Roy, पुलिस इंसपेक्टर, जमशेदपुर, झारखंड.   एक अनूठा प्रयास,“आनंद-भोज”, जिसके लिए जितनी भी सराहना हमारे मित्र पारस नाथ मिश्रा जी और उनकी संस्था सुभाष युवा मंच के सभी कर्मठ सदस्यों की की जाय,...
सुबह का साइंस: सूर्य की किरणें जीवन के लिए कितना जरुरी? Bihar Uttar Pradesh 

सुबह का साइंस: सूर्य की किरणें जीवन के लिए कितना जरुरी?

written by परशुराम शर्मा, Patna/Varanasi (गऊडांड, भोजपुर के मूल वासी परशुरामजी, जो सीनियर पत्रकार हैं, आजकल बात बे बात नामक सीरिज लिख रहे, एक किश्त यहाँ पेश हैं) 0-बनारस हिंदू वि.वि. के आईआईटी के दो वैज्ञानिकों ने खोज की है कि सूर्य की तरंगों से ‘हरित उर्जा’ पैदा हो सकती है। यह मानव जीवन के लिए एक क्रांतिकारी अविष्कार होगा।...
पहली महिला मुख्य न्यायाधीश भी हुई थीं लिंग भेद का शिकार! Bihar India 

पहली महिला मुख्य न्यायाधीश भी हुई थीं लिंग भेद का शिकार!

साथी जज हमेशा यह कहकर दूसरों से परिचय कराते थे- हमारी नई महिला जज से मिलिए। जैसे मैं महिला हूं यह नजर नहीं आ रहा हो। वे समारोह आदि में चाहते थे कि मैं चाय पानी का इंतजाम करूं। सेठ 5 अगस्त 1991 को हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश पद का शपथ ग्रहण करके भारत के किसी राज्य...
1 2 3 10