You are here
आज मंथन का आंकड़ा 251 पहुंचा India Uttar Pradesh 

आज मंथन का आंकड़ा 251 पहुंचा

आज मंथन का आंकड़ा 251 पहुंचामंथन का आमंत्रण -BBW दिल्ली मंथन में 30 सितम्बर रविवार तक कुल 251 स्वजनों का निबंधन (नया निबंधन: 20): (part3 की तस्वीरें क्र. सं. 1 से 14 तक)   1. SRI JAMUNA RAI (father of Anil Rai, Asansol) 2. SMT. MALTI DEVI (mother of Anil Rai)   3. MR.ANIL KUMAR RAI, (Mining Engr.), Asansol, W.B....
सुबह का साइंस: सूर्य की किरणें जीवन के लिए कितना जरुरी? Bihar Uttar Pradesh 

सुबह का साइंस: सूर्य की किरणें जीवन के लिए कितना जरुरी?

written by परशुराम शर्मा, Patna/Varanasi (गऊडांड, भोजपुर के मूल वासी परशुरामजी, जो सीनियर पत्रकार हैं, आजकल बात बे बात नामक सीरिज लिख रहे, एक किश्त यहाँ पेश हैं) 0-बनारस हिंदू वि.वि. के आईआईटी के दो वैज्ञानिकों ने खोज की है कि सूर्य की तरंगों से ‘हरित उर्जा’ पैदा हो सकती है। यह मानव जीवन के लिए एक क्रांतिकारी अविष्कार होगा।...
दीपक: बैंकिग सेक्टर में तेजी से बढता एक होनहार नौजवान Uttar Pradesh 

दीपक: बैंकिग सेक्टर में तेजी से बढता एक होनहार नौजवान

दीपक के बाबा चन्द्रभान शर्माजी अनेक वर्षों तक अदालत सरपंच रहे दीपक कुमार शर्मा के बाबा पंडित श्रीचन्द्रभान शर्मा जी अनेक वर्षों तक अदालत सरपंच के पद पर रहे। कई सारी ग्राम सभाओं को मिलाकर एक अदालत सरपंच का चुनाव होता था और शासन और प्रशासन में आपकी बहुत ही पहुँच थी। आपके पूर्व गृह राज्य मंत्री श्री राम कृष्ण द्विवेदी जी...
BBW: एक बड़े कैनवास पर समाज को देखने का अनुभव India Uttar Pradesh 

BBW: एक बड़े कैनवास पर समाज को देखने का अनुभव

नजदीकी रिश्तेदारों के अलावा इर्द गिर्द 10-20 परिवार को जान लेना ही काफी नहीं। ब्रह्मभट्टवर्ल्ड  के जरिए बड़े कैनवास पर समाज को देखना एक सुखद अनुभव है। उनमें कुछ लोगों से संपर्क की अच्छी शुरुआत हुई। महेंद्र भट्ट/ इलाहाबाद ब्रह्मभट्ट वर्ल्ड से जुड़ने के बाद समाज का फैलाव महसूस हुआ। नजदीकी रिश्तेदारों के अलावा अपने इर्द गिर्द दस बीस परिवार...
जब उनकी शादी में हम सब ठगे गये: जितेंद्र India Uttar Pradesh 

जब उनकी शादी में हम सब ठगे गये: जितेंद्र

शादी में मदद सबकी करनी चाहिये, लेकिन सुपात्रों की ही जिस पर अचानक कोई मुसीबत आ गयी हो जितेंद्र शर्मा हितैषी/इलाहाबाद रिश्तेदार को मदद करने पर BBW के अपने एडमिन राय तपन भारती जी का सुझाव पढ़ा। अत्यंत नेक विचार है। परंतु इसके साथ ही एक स्वजातीय परिवार की एक घटना याद आ गयी। आज आप सभी सदस्यों से साझा...
जिंदगी से जूझ रहे अभिषेक से लखनऊ में मुलाकात India Uttar Pradesh 

जिंदगी से जूझ रहे अभिषेक से लखनऊ में मुलाकात

जानकर मन व्यथित हुआ कि डायलिसिस के कारण दवाऑ के दुष्परिणाम से अभिषेक के सुनने की शक्ति ख़त्म हो चुकी है। ENT विशेषज्ञों से मिलकर इलाज़ कराने का प्रयास हो रहा है। वैसे वह एक होनहार नौजवान है। रेखा राय/चेन्नई समाज में कोई तकलीफ में हो तो मन बहुत विचलित हो जाता है। दुख देखा नहीं जाता। फ़ेसबुक ग्रुप ब्रह्मभट्टवर्ल्ड...
दे दुआ! आज 23 ही है, हर-जनम मुझे यह यार मिले! India Uttar Pradesh 

दे दुआ! आज 23 ही है, हर-जनम मुझे यह यार मिले!

-शादी_सालगिरह पर मेरी कलम का एक प्रयास  आलोक शर्मा/महाराजगंज (यूपी) बचपन बीता यौवन आया, जीवन ने ली जब तरुणाई; इक हुकसी मन में होती थी, जब बजती थी कहीं शहनाई! अठ्ठारह बरस पूर्व जीवन, दो-दर्जन बरस अकेला था; मै कैसे तुझे बता दूँ प्रिय, क्या-क्या? तन-मन ने झेला था! मधुमास नहीं था जीवन में, केवल पतझड़ ने वार किया; दो...
उप्र में पहली बार मंत्री बने थे ब्रह्मभट्ट समाज के पं. रामकुमार शास्त्री India Uttar Pradesh 

उप्र में पहली बार मंत्री बने थे ब्रह्मभट्ट समाज के पं. रामकुमार शास्त्री

1. मैंने इस ग्रुप में एक सवाल पूछा था कि आजादी के तुरत बाद उत्तर प्रदेश में ब्रह्मभट्ट समाज के कौन से शख्स प्रदेश सरकार में मंत्री बने थे? उनका नाम और गांव बताइए।   2. सही जवाब है- पंडित रामकुमार शास्त्री जी। वे Eastern UP में ग्राम खेसरहा,जनपद सिद्धार्थनगर के वासी थे। पहले यह इलाका बस्ती जिले में था।...
फैजाबाद में 88 स्वाजातीय गांव India Uttar Pradesh 

फैजाबाद में 88 स्वाजातीय गांव

‎Writtn by Jitendra Sharma Bhatt‎/Bulandshar/Faizabad फैजाबाद से कटकर अम्बेडकरनगर जिला बन जाने के बाद भी फैजाबाद में तकरीबन 88 गांवों में ये समाज निवासरत है जिनमे संख्या कुछ घर से लेकर सैकड़ो घर तक है ! जो स्वजन इन गांवों से हो फोन नम्बर व गांव भी लिखते रहे! ——-***********——–********* 1-भटपुरा ऊंचगांव 2-रामपुरभगन 3-सागरपुर ,4-उमापुर 5कर्मदांडे 6बीकापुर, 7-अबनपुर,   8-रेवतीगंज 9-नगईपुर...
ठहरो, ठहरो, ठहरो India Uttar Pradesh 

ठहरो, ठहरो, ठहरो

गीता भट्ट/इलाहाबाद हिरण भागता रहा, भागता रहा उस महक के पीछे-पीछे। यानी कस्तूरी के पीछे-।रुकने का नाम नही? थक गया हार गया, एक ही रास्ता बचा रुकना । जब ठहरा तो सिर झुकाया तो पता पडा कि मै जिसके पीछे भागते जा रहा था, वो मेरे खुद के पास ही है । इस जीवन काल( मृत्युलोक) मे परीक्षा सभी को...
1 2 3 4