You are here
BBW: एक बड़े कैनवास पर समाज को देखने का अनुभव India Uttar Pradesh 

BBW: एक बड़े कैनवास पर समाज को देखने का अनुभव

नजदीकी रिश्तेदारों के अलावा इर्द गिर्द 10-20 परिवार को जान लेना ही काफी नहीं। ब्रह्मभट्टवर्ल्ड  के जरिए बड़े कैनवास पर समाज को देखना एक सुखद अनुभव है। उनमें कुछ लोगों से संपर्क की अच्छी शुरुआत हुई। महेंद्र भट्ट/ इलाहाबाद ब्रह्मभट्ट वर्ल्ड से जुड़ने के बाद समाज का फैलाव महसूस हुआ। नजदीकी रिश्तेदारों के अलावा अपने इर्द गिर्द दस बीस परिवार...
जब उनकी शादी में हम सब ठगे गये: जितेंद्र India Uttar Pradesh 

जब उनकी शादी में हम सब ठगे गये: जितेंद्र

शादी में मदद सबकी करनी चाहिये, लेकिन सुपात्रों की ही जिस पर अचानक कोई मुसीबत आ गयी हो जितेंद्र शर्मा हितैषी/इलाहाबाद रिश्तेदार को मदद करने पर BBW के अपने एडमिन राय तपन भारती जी का सुझाव पढ़ा। अत्यंत नेक विचार है। परंतु इसके साथ ही एक स्वजातीय परिवार की एक घटना याद आ गयी। आज आप सभी सदस्यों से साझा...
जिंदगी से जूझ रहे अभिषेक से लखनऊ में मुलाकात India Uttar Pradesh 

जिंदगी से जूझ रहे अभिषेक से लखनऊ में मुलाकात

जानकर मन व्यथित हुआ कि डायलिसिस के कारण दवाऑ के दुष्परिणाम से अभिषेक के सुनने की शक्ति ख़त्म हो चुकी है। ENT विशेषज्ञों से मिलकर इलाज़ कराने का प्रयास हो रहा है। वैसे वह एक होनहार नौजवान है। रेखा राय/चेन्नई समाज में कोई तकलीफ में हो तो मन बहुत विचलित हो जाता है। दुख देखा नहीं जाता। फ़ेसबुक ग्रुप ब्रह्मभट्टवर्ल्ड...
दे दुआ! आज 23 ही है, हर-जनम मुझे यह यार मिले! India Uttar Pradesh 

दे दुआ! आज 23 ही है, हर-जनम मुझे यह यार मिले!

-शादी_सालगिरह पर मेरी कलम का एक प्रयास  आलोक शर्मा/महाराजगंज (यूपी) बचपन बीता यौवन आया, जीवन ने ली जब तरुणाई; इक हुकसी मन में होती थी, जब बजती थी कहीं शहनाई! अठ्ठारह बरस पूर्व जीवन, दो-दर्जन बरस अकेला था; मै कैसे तुझे बता दूँ प्रिय, क्या-क्या? तन-मन ने झेला था! मधुमास नहीं था जीवन में, केवल पतझड़ ने वार किया; दो...
उप्र में पहली बार मंत्री बने थे ब्रह्मभट्ट समाज के पं. रामकुमार शास्त्री India Uttar Pradesh 

उप्र में पहली बार मंत्री बने थे ब्रह्मभट्ट समाज के पं. रामकुमार शास्त्री

1. मैंने इस ग्रुप में एक सवाल पूछा था कि आजादी के तुरत बाद उत्तर प्रदेश में ब्रह्मभट्ट समाज के कौन से शख्स प्रदेश सरकार में मंत्री बने थे? उनका नाम और गांव बताइए।   2. सही जवाब है- पंडित रामकुमार शास्त्री जी। वे Eastern UP में ग्राम खेसरहा,जनपद सिद्धार्थनगर के वासी थे। पहले यह इलाका बस्ती जिले में था।...
फैजाबाद में 88 स्वाजातीय गांव India Uttar Pradesh 

फैजाबाद में 88 स्वाजातीय गांव

‎Writtn by Jitendra Sharma Bhatt‎/Bulandshar/Faizabad फैजाबाद से कटकर अम्बेडकरनगर जिला बन जाने के बाद भी फैजाबाद में तकरीबन 88 गांवों में ये समाज निवासरत है जिनमे संख्या कुछ घर से लेकर सैकड़ो घर तक है ! जो स्वजन इन गांवों से हो फोन नम्बर व गांव भी लिखते रहे! ——-***********——–********* 1-भटपुरा ऊंचगांव 2-रामपुरभगन 3-सागरपुर ,4-उमापुर 5कर्मदांडे 6बीकापुर, 7-अबनपुर,   8-रेवतीगंज 9-नगईपुर...
ठहरो, ठहरो, ठहरो India Uttar Pradesh 

ठहरो, ठहरो, ठहरो

गीता भट्ट/इलाहाबाद हिरण भागता रहा, भागता रहा उस महक के पीछे-पीछे। यानी कस्तूरी के पीछे-।रुकने का नाम नही? थक गया हार गया, एक ही रास्ता बचा रुकना । जब ठहरा तो सिर झुकाया तो पता पडा कि मै जिसके पीछे भागते जा रहा था, वो मेरे खुद के पास ही है । इस जीवन काल( मृत्युलोक) मे परीक्षा सभी को...
बेटी का बाप India Uttar Pradesh 

बेटी का बाप

किसी कवि के हृदयाभाव को समझना थोडा कठिन है, फिर भी पंक्तियाँ आपकी सेवा में निवेदित हैं श्री रॉय तपन भारती जी, Journalist को विशेष ===========बेटी का बाप========== आलोक शर्मा महराजगंज, यूपी बेटी का पिता होना ही, उस आदमी को राजा “बना देता है!” शादी खोजने निकलिए,तो समाज उसका बाजा “बजा देता है!” रिवाजों में बंधी इस परम्परा, का निर्वहन क्या...
बाजार में जब जबरन मुझे किताबें दी तो चौंक पड़ी India Tamil Nadu Uttar Pradesh 

बाजार में जब जबरन मुझे किताबें दी तो चौंक पड़ी

जब मैंने ये स्पष्ट किया कि यह तो बाइबल है और मुझे यह नहीं चाहिए तब उन्होंने किताब लेने से इनकार कर दिया, कई बार रिक्वेस्ट करने पर भी जब उन्होंने किताब वापस नहीं ली तब मैं उससे घर ले आयी क्यूँकि मेरी चेतना ने मुझे इजाज़त नहीं दी कि मैं किसी धार्मिक ग्रंथ का अपमान कर उसे कहीं भी...
तो ये नारी अबला क्यों कहलाये … India Uttar Pradesh 

तो ये नारी अबला क्यों कहलाये …

रागिनी शर्मा/इलाहाबाद पलकें झुका कर मुस्कुराये, वो हर बात पर अगर मौन हो जाये, तो दुनिया की निगाह में नारी है, अपने अधिकार की आवाज उठाली .. तो फिर बदचलन ये नारी ही कहलाये…   सब के हिस्से का दर्द सहे.. सब को भरपेट भोजन दे कर भूखी ये रहे, जानवरों की तरह सिर हिलाये नारी है.. अपने दुख दर्द...
1 2 3 4