You are here
प्रेम-जगत में रहकर तुमने कितनों का दिल तोड़ दिया! Uncategorized 

प्रेम-जगत में रहकर तुमने कितनों का दिल तोड़ दिया!

कली फूल संवाद   इक दिन”नाज़” हुआ कलियों को, फूल से इठलाकर बोली उमर तुम्हारी बीत गई अब , हम सब खेलेंगे होली! अद्भुत, कोमल, कांति रूप ले,नेह-पन्थ को छोड़ दिया; प्रेम-जगत में रहकर तुमने कितनों का दिल तोड दिया! काँटों में छुप-छुपकर बस, सुंदरता का श्रृंगार किया; है आज नहीं, कोइ कहने वाला, तुमने मुझको प्यार किया पता नहीं,...
इतनों से दोस्ती-रिश्ते कैसे निभाते, फेसबुक पर बहुत सारे पुरुष-महिलाएं फ्रेंड कैसे बन गए? Uncategorized 

इतनों से दोस्ती-रिश्ते कैसे निभाते, फेसबुक पर बहुत सारे पुरुष-महिलाएं फ्रेंड कैसे बन गए?

क्या आप रोज उनसे बात करते?नियमित बात न करने पर भी रिश्ते इतने मजबूत कैसे? 28 November 2014 को फसबुक के brahmbhattworld group पर प्रकाशित लेख: मैंने लोगों को ईमानदार दोस्त और निष्कपट रिश्तेदारों के लिए तरसते देखा है… पर मेरे सामने ऐसी दिक्कत कभी नहीं आई…इस कड़ी में सबसे पहले मुंबई के Suresh Sharma जी का जिक्र करुंगा जो...
लाखों में सबसे प्यारा है एक गांव हमारा: भरथुआ Uncategorized 

लाखों में सबसे प्यारा है एक गांव हमारा: भरथुआ

याद आती है गांव की वो कच्ची सड़के किसी के महल तो किसी के खपरैल और फुस की मकान। याद आती है वो घर का दही-चूड़ा, खेसारी की साग, आम लीची के पेड़ और हरे भरे खेत-खलिहान। याद आती है वो नमोनाथ बाबा का मंदिर, जिसका इतिहास में भी है दास्तान। जहां साक्षात शिव-शंकर बसते हैं, इस बात का है ठोस प्रमाण।।...
क्या फेसबुक ग्रुप के लिए यह सब संभव है? Uncategorized 

क्या फेसबुक ग्रुप के लिए यह सब संभव है?

लोकतंत्र में एक ही समाज के अनगिनत ग्रुप हो सकते हैं। जैसे मोदी समर्थकों के सैकड़ों ग्रुप चल रहे हैं। जैसे अख़बारों पर पाबंदी नहीं लगाई जा सकती वैसे ही फेसबुक ग्रुप के सृजन को रोका नहीं जा सकता।   1. नम्र निवेदन है कि पहले किसी भी लेख या पोस्ट को समग्र रूप से पढ़कर समझें फिर अपना मंतव्य...
दादाजी, काश आज आपको कोई तोहफ़ा दे पाती: ईशा Uncategorized 

दादाजी, काश आज आपको कोई तोहफ़ा दे पाती: ईशा

ईशा गौरव/मुंबई मेरे प्यारे दादाजी (Late SN Rana, Ex Principal, Dhanbad), आपको कोटि-कोटि नमन…   जब भी घर आती हूँ,आपको महसूस करना चाहती हूँ, देखकर आपके कपड़े, आपकी ऐनक, आपकी किताबें…फिर से आपकी यादों में खोना चाहती हूँ   याद आती है हर वो बात जो आपसे किया करती थी, कॉलेज से लौटने की बेला पे घर की बालकनी की...
जरूर बनाएं अपनी वंशावली Uncategorized 

जरूर बनाएं अपनी वंशावली

अधिकतर माता-पिता को भी अपने पूर्वजों के बारें में अधिक जानकारी नहीं रहती है | ये हमारी संस्कारों के विरूद्ध बातें हैं | हमें खुद भी और अपने बच्चों को भी इसकी जानकारी देनी चाहिए | त्रिपुरारी राय/सहरसा अक्सर हम अपने कार्यों के प्रति इतने व्यस्त रहते हैं कि अपने बच्चों को अपने पूर्वजों के बारें में नहीं बता पाते...
दिल्ली में एचआर मैनेजर अभिजित के लिए वधू बताएं Uncategorized 

दिल्ली में एचआर मैनेजर अभिजित के लिए वधू बताएं

दहेज की शर्त नहीं: दिल्ली में एचआर मैनेजर अभिजित के लिए वधू बताएं। अभिजित के परिवार ने सूचित किया है कि शादी के लिए दहेज शर्त नहीं। BIODATA Of AVIJIT SHARMA. Original Village: Thana colony, Bounsi, Dist. Banka, Bihar, Family Address: Jamshedpur, Mobile: 8540930080 Personal Details: Grand Father : Late. Gadadhar Prasad Sharma (Rtd. Guard of Indian Railways). Father’s Name :...
इलाहाबाद की वर्षा के लिए वर बताइए Uncategorized 

इलाहाबाद की वर्षा के लिए वर बताइए

दहेज पर जोर न हो तो यह पढ़ें इलाहाबाद की वर्षा संस्कारी युवती है। पिता का साया नहीं है पर मां हैं। वह पढ़ाई पूरा करने के बाद इलाहाबाद में काउंसलर की नौकरी कर रही है। इस होनहारी युवकी के लिए आज ही वर बताइए। Name : Varsha Sharma DOB    : 22nd August 1992 Place  : Allahabad. Time   : 11:10 am....
दहेज की शर्त नहीं : इंजी. अभिजित के लिए योग्य वधू बताएं Uncategorized 

दहेज की शर्त नहीं : इंजी. अभिजित के लिए योग्य वधू बताएं

नोएडा की कंपनी में इंजी. अभिजित शर्मा के लिए योग्य वधू बताएं सॉफ्टवेयर इंजीनियर अभिजित के माता-पिता रायपुर में बसे हैं Abhijeet Sharma DOB – 01/07/1987, Time- 05.35pm , City- Ghazipur(u.p) Hight- 5’11”, Color-fair Work- senior software Engineer (in MNC at Noida) Hobbies-travelling,photography,social work Family- Father- OM Prakash Sharma (Dy manager Sbl) Mother- Pushpa Sharma (MA sociology- house wife Brother- Aditya...
जूडो में दीक्षा अखिल को मिला गोल्ड मेडल Uncategorized 

जूडो में दीक्षा अखिल को मिला गोल्ड मेडल

जूडो में गोल्ड मेडल मिला पत्रकार अखिलेश अखिल की बेटी दीक्षा अखिल को दिल्ली स्टेट में आपमें से कई पत्रकार Akhilesh Akhil को जानते होंगे। वे भरथुआ निवासी हैं और दिल्ली में पत्रकारिता करते हैं। गांव के रिश्ते में मेरे भाई लगते हैं। अखिलेश ईमानदार पत्रकारिता के प्रति हमेशा समर्पित रहे। अखिलेश इस ग्रुप के मेंबर भी हैं। उन्होंने अपने...
1 2